दस्त (डायरिया) रोकने के घरेलू इलाज । HOME REMEDIES FOR LOOSE MOTION IN HINDI

 

दस्त ( डायरिया) रोकने के घरेलू इलाज , लक्षण , कारण । HOME REMEDIES FOR LOOSE MOTION , SYMPTOMS , CAUSES


Home Remedies For Loose Motion In Hindi
Loose Motion Treatment

दस्त (डायरिया) क्या है । WHAT IS LOOSE MOTION IN HINDI


हमारे शरीरिक रोगो में एक रोग पेट का भी है ।पेट से जुड़ी रोगों में दस्त भी एक रोग है जिससे अकसर लोग परेशान हो जाते हैं और कई तरह के Diarrhoea Treatment करते हैं।

असल में Diarrhoea में मल सामान्य से बिल्कुल पतला पानी की तरह होने लगता है जिससे रोगी को बार बार शौच जाना पड़ता है।

दस्त को अंग्रेजी में Loose Motion और डायरिया भी कहा जाता है। दस्त के कारण शरीर में पानी और ऊर्जा की कमी हो जाती है और रोगी बहुत कमज़ोर हो जाता है।

दस्त कभी कभी एक से दो दिन तक होता है और कभी यह दो दिन से ज्यादा भी होता है । दो दिन से ज्यादा दस्त का होना स्वास्थ्य के लिए बहुत नुकसानदायक होता है।

अगर Loose Motion Treatment से आराम न मिले और दो दिन से ज्यादा दस्त हो रहे हो तो इसको गंभीरता से लेना चाहिए और अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर करना चाहिए।

हम आपको इस लेख में बताते हैं की हम किस तरह से Home Remedies For Loose Motion  करके इस पर काबू पा सकते हैं। आइए जानते हैं दस्त के लक्षण , कारण और घरेलू इलाज ।


विषय सूची। TABLE OF CONTENTS

• दस्त (डायरिया) क्या है। What Is Loose Motion In Hindi

• दस्त (डायरिया) के लक्षण। Symptoms Of Loose Motion In Hindi

• दस्त (डायरिया) होने के कारण। Causes Of Loose Motion In Hindi

• दस्त (डायरिया) का इलाज। Loose Motion Treatment In Hindi

• दस्त (डायरिया) से बचाव के उपाय। Prevention Tips For Loose Motion In Hindi


दस्त (डायरिया) के लक्षण । SYMPTOMS OF LOOSE MOTION IN HINDI

आइए हम आपको बताते हैं Diarrhoea Symptoms  क्या हैं इससे हमें उपचार करने में मदद मिलेगी।

• शौच का बार बार आना।

• रक्त का शौच के साथ निकलना।

• पेट में सूजन होना।

• पेट में मरोड़ का होना।

• पेट के निचले हिस्से में दर्द महसूस होना।

• बुखार के साथ ठंड का लगना ।

• प्यास का जरूरत से ज्यादा लगना।

• आंतों की कार्य क्षमता कमज़ोर होना।


दस्त (डायरिया) होने के कारण । CAUSES OF LOOSE MOTION IN HINDI

आइए जानते हैं कि असल में दस्त होने का कारण क्या है इससे हमें Diarrhoea Treatment करना आसान हो जाता है।

• जीवाणुओं के संक्रमण के कारण दस्त होने लगते हैं।

• आंतों का तरल पदार्थ को सही तरह से अवशोषित न करने के कारण दस्त की समस्या उत्पन्न हो जाती है।

• भय या तनाव के कारण किसी - किसी को दस्त की समस्या हो जाती है।

• ज्यादा एंटीबायोटिक दवाओं के सेवन करनें के कारण दस्त की समस्या उत्पन्न होती है।

• फ़ूड इन्फेक्शन या एलर्जी के कारण भी दस्त होने लगते हैं।

• ज्यादा मावे की बनी चीजें खाने या अत्यधिक नशा करने से दस्त होने लगते हैं।


Home Remedies For Loose Motion In Hindi
Loose Motion Treatment


दस्त (डायरिया)का इलाज । LOOSE MOTION TREATMENT IN HINDI

दस्त को रोकने के लिए हम आपको कुछ कारगर Home Remedies For Loose Motion बताते हैं यह नुस्खे दस्त को रोकने के साथ शरीर की कमज़ोरी को भी दूर करते हैं आइए जानते हैं ।

1. आंवला 

Diarrhoea Treatment के लिए आंवले का उपयोग करना चाहिए इससे फायदा मिलता है।

10 ग्राम पिसा हुआ आंवला लीजिए फिर इसमें 5 ग्राम पिसी हुई हरड़ मिला कर मिक्स कर लें अब इसमें से एक चौथाई चम्मच रोज़ाना सुबह-शाम पानी के साथ उपयोग करें ।

इससे पाचन शक्ति बढ़ती है और हर तरह का दस्त बंद हो जातें हैं। अगर दस्त में रक्त आ रहा हो तो पिसा हुआ आंवला के एक चम्मच में शहद मिलाकर दिन में तीन बार इस्तेमाल करना चाहिए।

इससे बहुत जल्दी आराम मिलता है और रक्त आना बन्द हो जाता है।

Benefits Of Banana In Hindi इसको भी पढ़िए

 2. कैला

डायरिया में कैला खाना फायदेमंद होता है क्योंकि कैला कब्ज़ करता है और दस्त को रोकने में मदद करता है।

आधा पाव दही के साथ दो कैले मिलाकर खाने से दस्त आना बन्द हो जाते हैं कुछ दिन तक इसका सेवन करना चाहिए लाभ होता है।

कच्चे कैले की सब्ज़ी बनाकर उपयोग करने से दस्त , पेचिश में जबरदस्त लाभ होता है।

बच्चों को कैला मिक्स करके दिन में तीन से चार बार खिलाएं बहुत जल्दी दस्त बंद हो जातें हैं आराम मिलता है।

3. छाछ 

एक चम्मच शहद को आधा पाव छाछ में मिलाकर दिन में तीन बार रोगी को पिलाएं इससे Diarrhoea में आराम हो जाता है।

बरगद के पेड़ की जटा को सुखाकर पीस लें फिर इसमें से एक चम्मच छाछ में मिलाकर रोज़ाना रोगी को पिलाएं बहुत जल्दी दस्त होने बंद हो जातें हैं।

अगर दस्त लम्बे समय से लग रहे हो तो छाछ में सेंधा नमक , सेंका हुआ जीरा और हींग मिलाकर रोज़ाना दिन में तीन बार इस्तेमाल करें आराम मिलेगा।

4. सौंफ

अगर मरोड़ हो रही है और थोड़ा-थोड़ा और बार-बार  मल होता है तो 5 ग्राम भुनी हुई सौंफ को मिश्री के साथ उपयोग करने से मरोड़ और दस्त आना बन्द हो जाते हैं ।

भुनी हुई सौंफ और मिश्री बराबर मात्रा में मिलाकर पीस लीजिए और दिन में पांच से छह बार रोगी दो दो चम्मच ठंडे पानी के साथ रोगी को खिलाएं पेचिश होना बंद हो जाएगी।

5. बील

बील का सूखा हुआ गूदा पीसकर सुबह-शाम दो दो चम्मच रोगी को ठंडे पानी से खिलाएं बहुत जल्दी दस्त आना बन्द हो जाते हैं।

बील के गूदे को पानी में अच्छी तरह मिक्स करके इसमें शक्कर मिलाकर शर्बत बनाएं और रोगी को एक कप दिन में तीन बार पिलाएं लाभ होगा।

Home Remedies For Loose Motion In Hindi
Nimbu For Loose Motion

Lemon Benefits In Hindi इसको भी पढ़िए

6. नींबू

दस्त से छुटकारा पाने के लिए नींबू बहुत अच्छा Loose Motion Treatment At Home है। इसका सेवन करने से दस्त को रोकने में मदद मिलती है।

अगर बार बार और थोड़ा थोड़ा दस्त हो रहा हो तो आधे नींबू के रस में एक चम्मच प्याज़ का रस मिलाएं और इसको आधा कप ठंडे पानी में मिलाकर दिन में चार से पांच बार रोगी को पिलाएं लाभ होगा।

एक कप ठंडे पानी में थोड़ा सा नींबू निचोड़ कर थोड़ा नमक और शक्कर मिलाकर हर तीन घंटे में रोगी को पिलाएं दस्त बंद हो जाएंगे।

Jamun Fruit Benefits In Hindi इसको भी पढ़िए

7. जामुन

जामुन खाने से या जामुन का रस पीनें से दस्त बंद हो जातें हैं।

जामुन की गुठली और आम की गुठली को सुखाकर पीस लीजिए फिर इसमें से दो चम्मच सुबह-शाम पानी के साथ सेवन करें दस्त आना बन्द हो जाते हैं।

बार बार दस्त हो रहे हो तो जामुन की पत्तियों का रस निकालकर इसमे थोड़ा शहद मिलाकर रोगी को दिन में तीन बार पिलाएं बहुत जल्दी दस्त बंद हो जाएंगे।

Home Remedies For Loose Motion In Hindi
Adrak For Loose Motion


8. अदरक 

Home Remedies For Loose Motion के लिए अदरक बहुत अच्छा और अचूक दवा है।

अदरक का रस गर्म करके नाभी के आसपास लगाएं और रस को रूई में लगाकर नाभी पर रखें इससे बहुत जल्दी दस्त आना बन्द हो जाते हैं।

एक चम्मच अदरक के रस को एक कप उबले हुए पानी में मिलाकर गर्म गर्म हर घंटे से रोगी को पिलाएं इससे हर तरह के दस्त आना बन्द हो जाते हैं।

9. दालचीनी 

दालचीनी और खानें वाला सफेद कत्था समान मात्रा में पीसकर इसमें से आधा चम्मच ठंडे पानी से सेवन करनें से बार बार होने वाले दस्त बंद हो जातें हैं।

तीन ग्राम दालचीनी में तीन लोगे डालकर पीस लीजिए फिर इसको एक कप पानी में उबालें और इस पानी के दो घूंट दिन मे पांच बार रोगी को पिलाएं दस्त बिल्कुल बन्द हो जाएंगे।


10. नीम

नीम की निंबोली की गिरी निकालकर इसको पीस लीजिए फिर इसमें शक्कर मिलाकर रोगी को खिलाएं । एक दिन में तीन बार इसको खिलाने से दस्त ठीक हो जाते हैं। 

नीम के चार पत्तियां और चार कालीमिर्च मिलाकर पीस लें फिर इसको 100 ग्राम पानी में मिलाकर छान लें और रोगी को पिलाएं इससे पुराना से पुराना दस्त आना बन्द हो जाता है।

Tulsi Leaves Benefits In Hindi इसको भी पढ़िए

11. तुलसी

तुलसी की पत्तियों का काढ़ा बनाकर दिन में तीन-चार बार सेवन करने से Loose Motion में बहुत लाभ होता है। 

तुलसी की पत्तियों का रस निकालकर रोज़ाना इस्तेमाल करनें से पेट में होने वाली मरोड़ , जलन और दस्त में लाभकारी होता है।

तुलसी के बीज को पीसकर उसमें से एक चौथाई चम्मच दूध में मिलाकर पीने से दस्त बंद हो जातें हैं और मरोड़ में भी आराम मिलता है।

12.साबूदाना

125 ग्राम साबूदाने को एक ग्लास पानी में रात को भिगो दीजिए । सुबह साबूदाना छानकर निकाल लीजिए और पानी अलग कर दीजिए।

अब साबूदाने को हल्की आंच पर गैस चूल्हे पर सेंक लें फिर इसमें एक चम्मच जीरा और एक चम्मच घी डालकर सेंक लें।

जब साबूदाना अचछी तरह से सिक जाएं तो इसमें स्वादानुसार नमक और शक्कर मिलाकर रोगी को सुबह खाली पेट खिलाएं ।

साबूदाना खिलाने के बाद दो घंटे तक कुछ न खिलाएं इससे दस्त बहुत जल्दी बन्द हो जाते हैं और मिलता है।

13. सुपारी

सुपारी एक बहुत कारगर Home Remedies For Loose Motion है इससे बहुत जलदी दस्त पर काबू पाया जा सकता है।

एक ग्लास पानी में सुपारी के छोटे-छोटे टुकड़े करके डाले और पानी को उबालें। जब पानी अच्छी तरह उबल जाए और आधा रह जाए तो इसको छान लें।

इस पानी को सुबह-शाम रोगी को पिलाएं यह बहुत जल्दी दस्त बन्द कर देता है और आंतों और मेदे को मजबूत करता है।

14. चावल

चावल का उबला हुआ पानी जिसे मांड कहा जाता है यह Diarrhoea Treatment के लिए बहुत लाभकारी होता है। 

चावल का उबला पानी दस्त लगने पर बड़ों को एक कप पानी और बच्चों को आधा कप पानी पिलाएं इससे दस्त बन्द हो जाते हैं।

ज्यादा देर रखा हुआ पानी उपयोग न करें इसमे बदबू आने लगती है और यह हानिकारक हो सकता है। पानी में स्वाद बढ़ाने के लिए थोड़ा सा नमक मिलाकर रोगी को पिला सकते हैं फायदा मिलेगा।

15. बाजरा

बाजरा में सूखापन उत्पन्न करने के बहुत गुण पाये जाते हैं इसलिए यह बहुत अच्छा Home Remedies For Loose Motion है।

बाजरा मल के पतले पन को दूर करके मल को बांधता है जिससे दस्त रूक जाता है। जब दस्त पतला हो रहा हो तो बाजरा की खिचड़ी बनाकर दही के साथ खाने में दस्त आना बन्द हो जाते हैं।

अगर दस्त लम्बे समय से आ रहे हों तो बाजरा बाजरा का नियमित सेवन करने से दस्त आना बन्द हो जाते हैं।

16. दही

दस्त होने पर दही का सेवन करने से बहुत फायदा होता है Diarrhoea Home Remedies के साथ-साथ पेट की गर्मी और मरोड़ दूर होती है।

300 ग्राम दही में 200 ग्राम मावा की बनी मिठाई को मिलाकर सुबह-शाम रोगी को खिलाएं दस्त आना बन्द हो जाएंगे।

बड़ों या बच्चों के लिए आवश्यकतानुसार मात्रा कम या ज्यादा इस्तेमाल कर सकते हैं । 

ईसबगोल की भूसी को दही में मिलाकर रोज़ाना दिन में तीन बार रोगी को खिलाएं बहुत तेज़ दस्त भी जल्दी बन्द हो जाते हैं।


Home Remedies For Loose Motion In Hindi
Palak For Loose Motion


17. पालक 

शरीर में जब लोहा और फोलिक अम्ल की कमी हो जाती है तो दस्त होने लगते हैं। इसके लिए पालक का रस बहुत कारगर Home Remedies For Loose Motion है।

बहुत दिनों से दस्त हो रहे हो और दवा से फायदा नही मिल रहा हो तो पालक का रस आधा कप रोज़ाना दिन में चार बार रोगी को पिलाएं ।

इससे पुराने से पुराने दस्त आना बन्द हो जाते हैं और शरीर की कमज़ोरी भी दूर हो जाती है।


दस्त (डायरिया ) से बचाव के उपाय। PREVENTION TIPS FOR LOOSE MOTION IN HINDI

दस्त से बचने के लिए अगर हम पहले से ही कुछ बातों का ध्यान रखें तो Diarrhoea Treatment  हो सकता है। वो बाते क्या है आइए हम आपको बताते हैं।

• खराब खाना खाने से हमेशा बचना चाहिए क्योंकि सबसे ज्यादा दस्त का कारण खराब खाना है।

• अल्कोहल के सेवन‌से बचना चाहिए क्योंकि यह बहुत जल्दी पेट को खराब करके दस्त की समस्या उत्पन्न करता है।

• तेज़ मिर्च और मसाला खाने से बचना चाहिए क्योंकि यह पेट में गर्मी पैदा करते और हाजमा खराब कर देते हैं।

• पानी का खूब सेवन करना चाहिए इससे डीहाइड्रेशन से बचा जा सकता है।


निष्कर्ष । CONCLUSION

हमने इस लेख में आपको Home Remedies For Diarrhoea बताए हैं हो सकता है किसी को इनसे आराम न मिले अगर दो से तीन दिन में आराम न मिले तो यह समस्या गंभीर रूप ले सकती है इसलिए अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर करे।

बीमारी में लापरवाही करना शरीर के लिए घातक हो सकता है इसलिए बीमारी का इलाज करना हमारे लिये फायदेमंद साबित होता है।हमारे लेख को पढ़ते रहिए हम आपको सेहत से जुड़ी जरूरी और आवश्यक जानकारी देते रहेंगे।

HealthZone3.com

Syed Zafar Iqbal is the founder, developer, and author of HealthZone3.com . What began as a grad school hobby is now a top Health blog, with millions of readers coming to his site for reading health related content . He lives and continues to write non-stop in Madhya Pradesh . His first blogpost was published in 2020 . Visit him at Healthzone3.Com .

एक टिप्पणी भेजें

और नया पुराने