जामुन फल के फायदे । JAMUN FRUIT BENEFITS IN HINDI - HealthZone

जामुन फल के फायदे । JAMUN FRUIT BENEFITS IN HINDI


जामुन फल के फायदे  ।  JAMUN FRUIT BENEFITS IN HINDI

Jamun Fruit Benefits In Hindi
Jamun Fruit Benefits

बरसात का मौसम शुरू होते ही बाज़ार में जामुन फल आना शुरू हो जाता है । जामुन खाने में स्वादिष्ट और गुणों से भरपूर होती है । अकसर लोग जामुन खाना बहुत पसंद करतें हैं पर Jamun Fruit Benefits In Hindi और इसके उपयोग लोग नहीं जानते ।
इस लेख में हम आपको बताएंगे कि Jamun Benefits In Hindi हमारी सेहत के लिए कितने महत्वपूर्ण है । और जामुन हमें किस प्रकार रोगों से बचाता है । 
सबसे पहले हम बताते हैं कि जामुन क्या है और फिर बताएंगे  Jamun Fruit Benefits In Hindi स्वास्थ्य के लिए कितने महत्वपूर्ण हैं ।

Benefits Of Soybean In Hindi इसको भी जानिंए

जामुन क्या है ।  WHAT IS JAMUN IN HINDI 

जामुन बरसात में आनें वाला फल है । आमतौर पर यह काला या गुलाबी रंग का दिखता है । इसे ब्लेक प्लम (Black Plum) भी कहा जाता है ।
जामुन कई तरह की होती हैं पर Jamun Fruit Benefits In Hindi के गुण एक समान होते हैं । पकी हुई और मोटी जामुन को अच्छा समझा जाता है ।
जामुन को फल के साथ साथ औषधीय के रूप में भी उपयोग किया जा सकता है । Jamun Ke Fayde हमारे पाचन शक्ति को सही करती है और भूख को बढ़ाता है ।
जामुन क्षारीयता और अम्लीयता रक्त दोषों को दूर करती है । Benefits Of Jamun Fruit  के साथ जामुन का सिरका भी हमारी सेहत के लिए बहुत उपयोगी और फायदेमंद है ।


विषय सूची । TABLE OF CONTENTS IN HINDI


• जामुन फल के फ़ायदे ।  Jamun Fruit Benefits In Hindi 

• जामुन क्या है । what Is Jamun In Hindi

• जामुन के फ़ायदे ।  Jamun Ke Fayde In Hindi 

• जामुन के नुक़सान । Side Effects Of Jamun In Hindi 

• जामुन के पोषक तत्व । Nutrition Value Of Jamun



Health Benefits Of Corn In Hindi इसको भी जानिंए

जामुन के फायदे ।  JAMUN KE FAYDE IN HINDI 

Jamun Fruit Benefits In Hindi जानने के लिए इस लेख को आगे तक पढ़ते रहिए । जामुन हमारी सेहत के लिए कितना उपयोगी है और इसके फायदे कितने है आइए हम आपको बताते हैं ।


Jamun Fruit Benefits In Hindi
Jamun Fruit For Teeth

1. दांतों के रोग में आराम ।

यदी दांतों में दर्द है और दांत से खून निकल रहा है या दांत कमज़ोर हो गया है हिलता है ।
दो ग्लास पानी में  एक चौथाई चम्मच काली मिर्च और पचास ग्रांम जामुन के पत्तो को छोटे पीस करके उबालें ।
इस उबालें हुए पानी को छानकर रोज़ाना सुबह कुल्ला करें । और रोज़ाना पूरे सीजन जामुन का सेवन करते रहें ।
जामुन की छाल को पीसकर इसका मंजन बनाकर सुबह-सुबह मंजन करें । दांतों के सारे रोग दूर हो जाएंगे ।


Sir Ke khujli ka ilaj इसको भी जानिंए

2. मुंह के छाले ठीक करे ।

एक ग्लास पानी में जामुन के पचास पत्तों को पीसकर घोल लीजिए । 
इस पानी को छानकर इससे कुल्ला करें गरारे करें मुंह के छाले जल्दी ठीक हो जाएंगे ।
पका हुआ जामुन खाते रहने से भी मुंह के छालो से छुटकारा पाया जा सकता है ।
एक कप पानी में थोड़ा सा जामुन का सिरका मिलाकर इस पानी से कुल्ला करें ।
मुंह के छाले ठीक हो जाते हैं ।

3. दमा रोग से बचाव ।

Benefits Of Jamun Fruit In Hindi हमारी सेहत के लिए बहुत उपयोगी और फायदेमंद है ।
जामुन की गुठली की गिरी को पीस लीजिए और दो कप पानी में पिसी हुई गुठली का एक चम्मच डालकर अच्छी तरह उबालें ।
जब इसका पानी आधा हो जाए तो इसको छांनकर इसमें थोड़ी शक्कर मिलाकर रोजाना सुबह-शाम  इस्तेमाल करें ।
इसके इस्तेमाल करने से धीरे-धीरे दमा का दोरा पढ़ना रूक जाएगा और जल्दी दमा से छुटकारा मिल जाएगा ।


Pathri Ka ilaj इसको भी जानिंए

4. बांझपन दूर करता है ।

अगर किसी महिला को गर्भ ठहरने में परेशान हो रही है तो Jamun Fruit Benefits In Hindi इसका अच्छा उपचार है ।
इसके लिए सो ग्राम जामुन के पत्ते और सो ग्राम अनार के पत्तों को पीसकर दो सो ग्राम पानी में अचछी तरह मिला दें ।
इस पानी को छानकर रोगी महिला को नियमित पिलाएं । कुछ दिन इसका सेवन करने से गर्भ न ठहरने की समस्या दूर हो जायेगी ।

5. मासिक धर्म में फायदेमंद है

मासिक धर्म अगर रूक जाए तो जामुन खाना फायदेमंद है । एसी स्थिति में जामुन की गुठलियां निकालकर पीस लीजिए ।
अब इस पिसी हुई गुठलियों में पांच ग्राम कालीमिर्च का चूर्ण मिलाएं फिर इस मिश्रण में आधा चम्मच शहद मिलाएं । 
इस मिश्रण को रोगी महिला को सुबह-शाम दो माह तक खिलाएं । इससे मासिक धर्म सही तरीके से होने लगेगा और नियमित भी हो जाएगा । 

Jamun Fruit Benefits In Hindi
Jamun For Lever


6. यकृत में सुधार करता है ।

Jamun Benefits In Hindi लीवर को सही करने में भी बहुत हैं । जामुन का नियमित सेवन करने से ये लीवर फंक्शन में सबरदस्त सुधार कर देता है ।
यह लीवर एक्सट्रेकट  की तरह काम करता है 
इसके लिए रोजाना लगभग 200 ग्राम जामुन खाएं या फिर इतना ही रस पिएं इससे लीवर के रोगों में लाभ मिलता है ।
तिल्ली, लीवर और पीलिया जैसे रोगों में रोज़ाना जामुन खाना फायदेमंद होता है । इसके लिए जामुन का सिरका भी इस्तेमाल कर सकते हैं लाभ मिलेगा ।

Benefits Of Anar  इसको भी जानिंए

7. दस्त में आराम ।

Jamun Khane Ke Fayde दस्त में भी बहुत कारगर साबित होते हैं । कैसे भी दसत हो रहें हो जामुन के पेड़ से ताज़ी चार पत्तियां तोड़कर अच्छी तरह पीस लीजिए और थोड़ा सा सेंधा नमक मिलाकर इसकी गोलियां बना लीजिए ।
इन गोलियों में से एक गोली सुबह और ऐक गोली रात में रोगी को नियमित खिलाएं दस्त फौरन बन्द हो जातें हैं ।
जामुन की पत्तियों में नमक मिलाकर चबाएं और इसका रस चूस ले और गूदा थूक दें इससे भी दस्त जलदी बन्द हो जातें हैं और रोगी को आराम मिलता है ।

8. गला के रोग में फायदेमंद है ।

गले में दर्द हो या गला बैठ जाए और आवाज निकलना कम हो जाए तो Jamun Ke Guthli Ke Fayde इसको दूर करते हैं ।
जामुन की गुठली निकाल कर इसको पीस लें और इसमें शहद मिलाकर गोलियां बना लीजिए । दो दो गोलियां सुबह शाम रोगी चूसकर खांए ।
इससे गला खुल जाता है । आवाज़ का भारीपन दूर हो जाता है । ज्यादा दिन तक उपयोग करने से बिगड़ी हुई आवाज़ भी ठीक हो जाती है ।
पकी हुई जामुन पर काला नमक डालकर खाने से से बेठा हुआ गला सही हो जाता है । लगी हुई आवाज़ ठीक हो जाती है ।


Jamun Fruit Benefits In Hindi
Jamun Fruit For Pimples


How To Remove Pimples in Hindi इसको भी जानिंए

9. मुंहासों से छुटकारा ।

जामुन के नियमित इस्तेमाल करनें से चेहरे के मुहांसे ठीक हो जाते हैं और चेहरा साफ और चमकदार हो जाता है ।
इसके लिए जामुन की गुठलियों को पानी में डालकर इसको पीसकर चेहरे पर लेप करें फिर आधा घंटे के बाद चेहरे को पानी से साफ कर लें मुहांसों से जल्दी छुटकारा मिल जाएगा ।
मुंहासों से छुटकारा पाने के लिए रोजाना Jamun Ke Guthli Ke Fayde इस्तेमाल करें और जामुन की गुठली को दूध में पीसकर चेहरे पर लगाएं ।


10. मधुमेह में आराम ।

मधूमेह रोगियों को रोजाना लगभग 150 ग्राम जामुन का सेवन करना चाहिए लाभ होता है । जामुन ब्लड में ग्लूकोज को कंट्रोल करता है ।
जामुन की गुठली का चूर्ण बना कर एक एक चम्मच दिन में तीन बार इस्तेमाल करें यह शर्करा को ठीक कर देता है ।
मधूमेह में जहा सारी औषधियों काम करना छोड़ देती है वहा जामुन की गुठली का प्रयोग सफल होता है । जामुन की गुठली मधूमेह रोगियों के लिए रामबाण है।

Lemon Benefits In Hindi इसको भी जानिंए

11. पेचिश में आराम ।

Jamun Khane Ke Fayde  हम पेचिश में भी ले सकते हैं । इसके लिए जब पेचिश हो रही हो तो दस ग्राम जामुन की गुठली को पानी में पीसकर आधा कप पानी में मिलाएं ।
इस पानी को रोगि को सुबह-शाम पिलाएं खूंनी दस्त बहुत जल्दी बन्द हो जाएंगे ।
एक कप जामुन के रस में दो चम्मच शक्कर मिलाकर रोगी को पिलाएं दस्त में ख़ून आना बन्द हो जाएगा ।
जामुन के पत्ते पीसकर आधा कप पानी में मिलाकर सुबह-शाम रोगी को पिलाएं आराम मिल जाएगा ।

12. बवासीर में आराम ।

अगर किसी व्यक्ति को बवासीर हो और दवा से फायदा नही मिल रहा है तो जामुन का इस्तेमाल करें फ़ायदा मिलेगा ।
जामुन के पत्तो को आधा कप दूध में पीसकर अच्छी तरह मिला लें फिर छानकर दूध में मिला लीजिए ।
इसको दिन में तीन बार रोगी को पिलाएं खूंनी बवासीर में जबरदस्त लाभ मिलेगा और बवासीर जल्द ही बन्द हो जाएगी।
जामुन की पत्तियों के रस में बराबर मात्रा में पानी मिलाएं और थोड़ी शक्कर मिलाकर रोगी को दिन में तीन बार पिलाएं बवासीर में खून आना बन्द हो जाएगा ।

13. स्मरण - शक्तिवर्धक ।

मस्तिष्क की कोशिकाओं के कमज़ोर होने या बुढ़ापे की बीमारियों की वजह से याददाश्त कमज़ोर हो जाती है इसके लिए जामुन का सेवन करना फायदेमंद है ।
जामुन मे एंटीऑक्सीडेंट होता है ख़ासतौर पर फलेबोनायडस होता है जो हमारी याददाश्त को बढ़ाने में मदद करते हैं ।
इसलिए सीज़न में रोज़ाना जामुन का इस्तेमाल करना चाहिए । ख़ासतौर पर बच्चों और बुजुर्गो को जरूर खिलाना चाहिए ।

14. बेक्टिरिया से बचाता है ।

संक्रमण की वजह से  कई तरह के बैक्टिरिया और फंगस हो जाते है जो हमारी सेहत के लिए बहुत हानिकारक होते हैं ।
आगर जामुन का नियमित इस्तेमाल किया जाए तो हमारे शरी को संक्रमण से लड़ने क्षमता पैदा होती है ।
असल में जामुन एक एंटी बेक्टिरियल है जो हमारे शरीर और त्वचा को संक्रमण से बचाने का काम करता है ।

15. दिल को स्वस्थ बनाता है ।

Jamun Fruit Benefits In Hindi  दिल को मजबूत बनाने के लिए बहुत है । जामुन में पोटेशियम की मात्रा अच्छी पाई जाती है और पोटेशियम दिल को मजबूत करने में बहुत मदद करता है ।
जामुन के सेवन करने से यह Heart Desease की समस्या की शंका को बहुत कम कर देता है ।
जामुन ब्लड प्रेशर को नियंत्रित करके नार्मल कर देता है जिससे Heart Attach का खतरा भी कम हो जाता है ।
Heart Patients को अपने से परामर्श करके जामुन का इस्तेमाल करते रहना चाहिए फ़ायदा मिलेगा ।


Jamun Fruit Benefits In Hindi
Jamun Fruit Benefits


जामुन  के नुक़सान । SIDE EFFECTS OF JAMUN IN HINDI

Jamun Benefits In Hindi  के साथ - साथ इसके कुछ नुक़सान भी है आइए हम आपको बताते हैं कि जामुन के नुक़सान क्या है ।

•  जामुन दूध पीकर फौरन नही खाना चाहिए बल्कि खाना खाने से एक घंटा पहले या एक घंटा बाद खाना चाहिए ।

• अगर उल्टियां हो रही है तो जामुन खानें से परहेज़ करना चाहिए इससे  बुखार होने के संभावना बड़ जाती है ।

• जामुन में कार्बोहाइड्रेट पाया जाता है इसके अधिक सेवन करने से वेट बढ़ने की संभावना बड़ जाती है ।

• जामुन में विटामिन सी पाया जाता है इसके अत्यधिक सेवन से पेट पर नकारात्मक प्रभाव पड़ सकता है ।

• किसी किसी जामुन में कीड़ा भी लग जाता है जो हमारी सेहत के लिए हानिकारक हो सकता है इसलिए इसको सावधानी से उपयोग करना चाहिए ।

• जामुन का सेवन खाली नहीं करना चाहिए इससे कब्ज़ की शिकायत हो सकती है ।

• सर्जरी से पहले या फ़ौरन बाद जामुन का सेवन करने से बचना चाहिए क्योंकि यह ब्लड शुगर के लेवल को कम कर देता है । सावधानी रखना चाहिए ।

• जामुन से बने प्रोडक्ट का इस्तेमाल शुगर रोगियों को कम करना चाहिए क्योंकि यह शुगर कम करता है जिससे रोगी को समस्या उत्पन्न हो सकती है ।

• स्तनपान कराने वाली महिलाओं को जामुन का अधिक सेवन नहीं करना चाहिए यह उनके लिए हानिकारक हो सकता है ।

• ज्यादा जामुन खाने से किसी - किसी को खांसी की समस्या उत्पन्न हो सकती है इसलिए खांसी या कफ जल्दी होने वाले रोगी को जामुन से परहेज़ करना चाहिए ।


जामुन के पोषक तत्व । NUTRITION VALUE OF JAMUN IN HINDI

Jamun Fruit Benefits In Hindi और उपयोग जानने के लिए जामुन के पोषक तत्वों को जानना जरूरी है इससे पता चलता है कि  जामुन  हमारे  लिए  कितना  फायदा करता है ।


• पानी                       78.2 %

• प्रोटीन                     0.7 %

• फास्फोरस।              0.12 %

• लोहा                      1.0 %

• कैल्शियम                0.3 %

• वसा                       0.1 %

• लवण                     0.4 %

• कार्बोहाइड्रेट            19.7 %

• रेशा                        0.9 %

• स्टार्च                      41 %

• टैनिन                     7 %

कोई टिप्पणी नहीं

Blogger द्वारा संचालित.